10 रुपया कमाने के लिए 25 टोकरी पत्थर तोड़ने वाला लड़का राम भजन कुमार ने  UPSC को कैसे पास किया  ?

राजस्थान के दौसा से 13 किलोमीटर दूर बापी गांव के स्थित राम भजन कुमार का जन्म एक गरीब परिवार में हुआ था |

पिता को अस्थमा के बीमारी के कारण राम भजन को घर खर्च चलाने के लिए माँ के साथ पत्थर तोड़ने का काम करना पड़ा|

राम भजन की पढाई

राम भजन ने राजस्थान के दौसा जिले के बापी जैसे एक छोटे-से गांव के सरकारी स्कूल में पढ़ाई की थी

आगे इन्होने ग्रेजुएशन  पोस्ट ग्रेजुएशन भी पास किया आगे चल कर इन्होने JRF भी पास किया Phd के लिए|

दिल्ली पुलिस में राम भजन 2009 में एक कांस्टेबल के रूप में शामिल हुए थे।

सीनियर अधिकारियों से काफी प्रेरित होकर आईपीएस बनने की चाहत बढ़ी

UPSC की तैयारी

राम भजन कुमार ने कहा, '' फिरोज आलम से मैं प्रेरित हूं, जो दिल्ली पुलिस में एक कांस्टेबल थे और 2019 में यूपीएससी की परीक्षा पास करने के बाद एसीपी बन गए।

राम भजन कुमार ने 8वीं बार में 667वीं रैंक के साथ यूपीएससी की परीक्षा पास कर ही लिया |

राम भजन के संघर्षो से हमें बहुत ही प्रेरणा मिल रही है इनके संघर्षो की कहानी को पढने के लिए क्लिक करे |