Test Examine

“ऑपरेशन सर्वशक्ति” भारतीय सेना ने किया लांच

ऑपरेशन सर्वशक्ति

पाकिस्तान के द्वारा  जम्मू-कश्मीर में आतंकवादी गतिविधियों को बढ़ाने की कोशिशों को नाकाम करने की दिशा में भारतीय सेना एक बड़ा कदम उठाते हुए ऑपरेशन सर्वशक्ति शुरू कर रही है .

ऑपरेशन सर्वशक्ति के द्वारा सेना के सुरक्षा बल जम्मू-कश्मीर के पीर पंजाल पर्वत श्रृंखला के दोनों किनारों पर सक्रिय आतंकवादियों को निशाना बनाएंगे।

हाल के दिनों में, पाकिस्तानी प्रॉक्सी आतंकवादी समूहों ने पीर पंजाल पर्वतमाला के दक्षिण में विशेष रूप से राजौरी पुंछ सेक्टर में आतंकवाद को पुनर्जीवित करने की कोशिश की है।

जहां आतंकियों के हमले में करीब 20 जवान शहीद हो गए हैं. सबसे ताज़ा मामला 21 दिसंबर का है, जब डेरा की गली इलाके में कार्रवाई में चार सैनिक मारे गए।

ऑपरेशन सर्वशक्ति में क्या होगा ?

ऑपरेशन सर्वशक्ति के द्वारा पीर पंजाल पर्वतमाला के दोनों किनारों से संयुक्त आतंकवाद विरोधी अभियान चलाया जायेगा । जैसे की किसी किसी एक जगह पर आतंकवादियों का का कैंप है तो उस कैंप और आतंकवादियों को मार गिराने के लिए पर्वत के दोनों तरफ से घेरा बंदी की जाएगी ताकि वे सब भाग ना सके |

और इस ऑपरेशन सर्वशक्ति को सफल बनाने के लिए जम्मू-कश्मीर पुलिस, सीआरपीएफ, स्पेशल ऑपरेशंस ग्रुप और खुफिया एजेंसियां केंद्र शासित प्रदेश, खासकर राजौरी पुंछ सेक्टर में आतंकवादी गतिविधियों को पुनर्जीवित करने के पाकिस्तानी मंसूबों को विफल करने के लिए निकट समन्वय में काम करेंगी।

ऑपरेशन सर्वशक्ति, जिसके हिस्से के रूप में विभिन्न रिजर्व और स्ट्राइक कोर संरचनाओं से अतिरिक्त सैनिकों की कम से कम तीन ब्रिगेड को सेक्टर में तैनात किया जा रहा है, भारतीय सेना ने राजौरी-पुंछ सेक्टर में और अधिक सैनिकों को शामिल करने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी है। क्षेत्र में खुफिया तंत्र को मजबूत करने के साथ ही सैनिकों को शामिल करने की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। सुरक्षा बल क्षेत्रों में आतंकवाद को विफल करने के लिए स्थानीय समर्थन को लेकर भी आश्वस्त हैं। 

सूत्रों ने कहा कि कृष्णा घाटी इलाके में सेना के एक वाहन पर हमला करने के लिए आतंकवादियों के उकसावे के बावजूद, सैनिकों ने जवाबी गोलीबारी नहीं की क्योंकि वहां बहुत सारे नागरिक मौजूद थे।

ऑपरेशन सर्प्विनाश 

कुछ इसी प्रकार से 2003 में इंडियन फ़ोर्स ने ऑपरेशन सर्प्विनाश को लाया था .  

निष्कर्ष

यह ऑपरेशन उधमपुर में सेना मुख्यालय और उत्तरी सेना कमान की कड़ी निगरानी में शुरू किया जा रहा है और इसके तुरंत बाद इसकी योजना बनाई गई थी।

गृह मंत्री अमित शाह ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, सेना, आंतरिक और बाहरी दोनों एजेंसियों सहित खुफिया एजेंसियों, राज्य और केंद्रीय दोनों एजेंसियों के पुलिस अधिकारियों सहित सभी हितधारकों के साथ एक सुरक्षा बैठक की। 

Leave a comment